om jai jagdish hare aarti

Om Jai Jagdish Hare Lyrics

पं. श्रद्धाराम शर्मा कृत

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

जो ध्यावे फल पावे,
दुःख बिनसे मन का,
स्वामी दुःख बिनसे मन का।
सुख सम्पति घर आवे,
सुख सम्पति घर आवे,
कष्ट मिटे तन का ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

मात पिता तुम मेरे,
शरण गहूं किसकी,
स्वामी शरण गहूं मैं किसकी ।
तुम बिन और न दूजा,
तुम बिन और न दूजा,
आस करूं मैं जिसकी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम पूरण परमात्मा,
तुम अन्तर्यामी,
स्वामी तुम अन्तर्यामी ।
पारब्रह्म परमेश्वर,
पारब्रह्म परमेश्वर,
तुम सब के स्वामी ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम करुणा के सागर,
तुम पालनकर्ता,
स्वामी तुम पालनकर्ता ।
मैं मूरख फलकामी,
मैं सेवक तुम स्वामी,
कृपा करो भर्ता॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

तुम हो एक अगोचर,
सबके प्राणपति,
स्वामी सबके प्राणपति ।
किस विधि मिलूं दयामय,
किस विधि मिलूं दयामय,
तुमको मैं कुमति ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

दीन-बन्धु दुःख-हर्ता,
ठाकुर तुम मेरे,
स्वामी रक्षक तुम मेरे ।
अपने हाथ उठाओ,
अपने शरण लगाओ,
द्वार पड़ा तेरे ॥
॥ ॐ जय जगदीश हरे..॥

विषय-विकार मिटाओ,
पाप हरो देवा,
स्वमी पाप(कष्ट) हरो देवा ।
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ,
सन्तन की सेवा ॥

ॐ जय जगदीश हरे,
स्वामी जय जगदीश हरे ।
भक्त जनों के संकट,
दास जनों के संकट,
क्षण में दूर करे ॥

Om Jai Jagdish Hare हिंदी में अर्थ सहित

ॐ, आपकी जय हो, ब्रह्माण्ड के स्वामी,
स्वामी, आपकी जय हो, ब्रह्माण्ड के स्वामी,
आपके भक्तों की कठिनाइयाँ,
आपके सेवकों की कठिनाइयाँ,
आप एक पल में दूर कर देते हैं।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

जो कोई आपका ध्यान करेगा उसे आपकी कृपा प्राप्त होगी,
जो कोई भी दुःख मुक्त मन से ध्यान करेगा,
स्वामी, दुःख मुक्त मन से।
खुशी और समृद्धि उनके पास आएगी,
खुशी और समृद्धि उनके पास आएगी,
और शरीर (और मन) की परेशानी दूर हो जाएगी।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

आप मेरे पिता और माता हैं,
और मेरी शरण हैं,
स्वामी, आप ही मेरी शरण हैं।
आपके अतिरिक्त और कोई नहीं है,
स्वामी, कोई और नहीं है,
जिसकी मैं अभिलाषा करता हूँ।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

आप पुराण परमात्मा हैं,
आप ही सबके वासी हैं,
स्वामी, आप ही सबके वासी हैं।
आप परब्रह्म और परम ईश्वर (सर्वोच्च ईश्वर) हैं,
आप परब्रह्म और परम ईश्वर (सर्वोच्च ईश्वर) हैं,
आप सभी के भगवान हैं।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

आप करुणा के सागर हैं,
आप सबका पालन-पोषण करने वाले हैं,
स्वामी, आप सबका पालन-पोषण करने वाले हैं,
मैं अज्ञानी हूं और इच्छाओं के पीछे जाता हूं,
मैं आपका सेवक हूं और आप मेरे भगवान हैं,
इसलिए मुझ पर अपनी कृपा बरसाओ, हे स्वामी!
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

आप एक अदृश्य
और सभी प्राणियों के स्वामी हैं,
स्वामी, सभी प्राणियों के स्वामी हैं।
मैं तुमसे कैसे मिलूंगा, हे दयालु,
मैं तुमसे कैसे मिलूंगा,
मैं तो अज्ञानी हूं।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

आप असहायों के मित्र हैं, और दुखों को दूर करने वाले हैं,
आप मेरे भगवान हैं,
स्वामी, आप मेरे रक्षक हैं।
कृपया अपना हाथ बढ़ाएं (वरद, वरदान देने वाला और अभय, भय दूर करने वाला),
और मुझे अपनी सुरक्षा में ले लें।
मैं अपने आप को आपके चरणों में समर्पित करता हूं,
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

मेरी सांसारिक इच्छाओं को दूर करो,
और मेरे पापों को दूर करो, हे देव,
और मेरे पापों को दूर करो, हे स्वामी,
तुम्हारे प्रति मेरी आस्था और भक्ति को बढ़ाओ,
तुम्हारे प्रति मेरी आस्था और भक्ति को बढ़ाओ,
और इस सेवक की भक्ति सेवा को बढ़ाओ।
ओम, आपकी जय हो, ब्रह्मांड के स्वामी।

******

Om Jai Jagdish Hare Aarti Lyrics को हमने ध्यान पूर्वक लिखा है, फिर भी इसमे किसी प्रकार की त्रुटि दिखे तो आप हमे Comment करके या फिर Swarn1508@gmail.com पर Email कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here